*देखिए फरीदकोट में 20000 करोड़ की प्रॉपर्टी का मामला 23 लोगों के खिलाफ केस दर्ज महाराजा नरेंद्र सिंह की बनाई नकली वसीयत ।*

पंजाब

Chief: Rajendra Kumar
8 जुलाई फरीदकोट (पत्रकार: शुभम रजक) पंजाब के फरीदकोट से बड़ी खबर है। फरीदकोट के महाराजा हरिंदर सिंह बराड़ की फर्जी वसीयत तैयार करने के मामले में फरीदकोट पुलिस ने 23 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया है। ये केस राजा हरिंदर बराड़ की बेटी अमृत कौर की तरफ से दर्ज किया गया है। अमृत कौर का आरोप है कि उनके पिता महाराजा हरिंदर सिंह की मानसिक हालत ठीक नहीं थी, जिसका फायदा उठाकर इन लोगों ने उनकी फर्जी वसीयत तैयार करवाकर प्रापर्टी हड़पने की कोशिश की। केस में राजा जैचंद मेहताब (राजकुमारी दीपइंदर के बेटे), नगर सुधार ट्रस्ट फरीदकोट के चेयरमैन ललित मोहन गुप्ता और पूर्व जज जतिंदर सिंह बैनीवाल समेत 23 लोग नामजद हैं।इस फैसले को अमृत कौर ने चुनौती दी थी, जिसके बाद अदालत ने अपने आदेश में राजा हरिंदर सिंह बराड़ की 1982 में बनाई गई वसीयत को अवैध ठहराते अमृत कौर को मालिकाना हक दिया था। साथ ही ट्रस्ट को अवैध करार दिया था। इस ट्रस्ट की चेयरपर्सन दीपइंदर कौर थी।
बता दें कि हाईकोर्ट ने कुछ महीनों पहले राजा की 20 हजार करोड़ की प्रापर्टी में से 25 प्रतिशत हिस्सा महारानी महिंदर कौर को भी दे दिया था, वही बाकी बची 75 प्रतिशत संपत्ति का आधा-आधा उनकी बेटियों राजकुमारी अमृत कौर और दीपइंदर कौर को देने के आदेश दिए थे।
अपील में यह भी बताया गया था कि अभी राजकुमारियों की मां जिंदा हैं और ऐसे में अगर वसीयत को अवैध भी करार दे दिया जाता है तो भी इस संपत्ति पर मां का हिस्सा भी बनता है जिसके बारे में जिला अदालत ने अपने आदेशों में कोई जिक्र तक नहीं किया।
अमृत कौर का आरोप था कि दीपइंदर ने साजिश के तहत पहले झूठी वसीयत तैयार करवाई और फिर एक ट्रस्ट तैयार किया। उस ट्रस्ट के नाम सारी प्रापर्टी कर दी। उस ट्रस्ट की दीपइंदर खुद चेयरपर्सन बन गई। वसीयत ऐसे तैयार की गई, जिसमें लिखा कि राजकुमारी अमृत कौर का इस संपत्ति पर कोई अधिकार नहीं है।
फिलहाल अब फरीदकोट पुलिस ने अमृत कौर के बयानों पर धोखाधड़ी का केस दर्ज किया है।
राजा की संपत्ति
फरीदकोट : राजमहल, किला, हॉस्पिटल, एयरपोर्ट, 5 एयरक्राफ्ट जो कि खंडर हालत में वहां खड़े हैं। जो अच्छे एयरक्राफ्ट थे, उन्हें ट्रस्ट की ओर से बेचे जाने के आरोप हैं। 18 विंटेज लग्जीरियस कारें। फरीदकोट के बीड़ चहल, बीड़ सिक्खावालां और बीड़ घुगयाना में 6 हजार एकड़ जमीन।
शिमला : मशोबरा में 280 बीघे का एक इस्टेट है। यहां पर पांच कोठियां थीं, जिन्हें जला दिया गया है। एक कोठी खंडहर है।
दिल्ली : दिल्ली में कोपरनिकस मार्ग पर 8.5 एकड़ में फरीदकोट हाउस है। चाणक्यपुरी स्थित न्याय मार्ग पर डेढ़ एकड़ में छोटा फरोदकोट हाउस है। ओखला में इंडस्ट्रियल प्लॉट है। माल रोड दिल्ली में भी एक फ्लैट है। यशवंत प्लेस में एक बड़ी शॉप है।

 125 total views,  1 views today

Share this:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *